7 जून 1893:126 साल हो गये साउथ अफ्रीका मे हुआ था वापू पर अत्याचार

7 जून 1893:126 साल हो गये साउथ अफ्रीका मे हुआ था वापू पर अत्याचार

7 जून 1893:126 साल हो गये साउथ अफ्रीका मे हुआ था वापू पर अत्याचार

राकेश की रिपोर्ट

आज के दिन ही एक कड़वे सच से हुआ था महात्मा गांधी का सामना, बदल गया था जीवन का मकसद.
आज से ठीक 126 साल पहले 7 जून को देश के एक बैरिस्टर को साउथ अफ्रीका में ट्रेन से धक्का देकर उतारा गया था. 


7 जून 1893 के दिन स्टेशन से उठकर गांधी ने पूरी रात वेटिंग रूम में बिताई और वहीं से सत्याग्रह की नींव रख दी.
उस दौरान गांधीजी गुजरात के राजकोट में वकालत करते थे. वो इतने बड़े वकील थे कि उन्हें दक्षिण अफ्रीका से सेठ अब्दुल्ला ने एक मुकदमा लड़ने के लिए बुलाया था. वो पानी के जहाज से दक्षिण अफ्रीका के डरबन पहुंचे. यहां 7 जून को उन्होंने प्रीटोरिया के लिए ट्रेन पकड़ी.
उस दिन गांधी जी के पास उसी ट्रेन का फर्स्ट क्लास का टिकट था. वो जाकर अपनी बर्थ में बैठ गए. यहां से ट्रेन पीटरमारिट्जबर्ग स्टेशन पहुंचने को थी तभी उनसे थर्ड क्लास डिब्बे में जाने के लिए कहा गया. गांधीजी ने टिकट का हवाला दिया और जाने से इनकार कर दिया.
 

वहां से ट्रेन जैसे पीटरमारिट्जबर्ग स्टेशन पर रुकी. उन्हें धक्का देकर नीचे उतार दिया गया.कड़कड़ाती ठंड में वो स्टेशन के वेटिंग रूम में पहुंचे.उन्होंने वो रात जागकर बिताई, पूरी रात वो सोचते रहे. एक बार ख्याल आया कि वे बिना कोई प्रतिक्रिया दिए भारत वापस लौट जाएं. लेकिन दूसरे ही पहल सोचा कि क्यों न उन्हें अब अपने देश में भारतीयों के खिलाफ हो रहे जुल्म के खिलाफ लड़ना चाहिए.

यह उन पर पहला नस्लभेदी (रेसिस्ट) प्रहार था, जिसे वो बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे. बस उसी रात दक्षिण अफ्रीका के पीटरमारिट्जबर्ग में गांधी के सत्याग्रह की नींव पड़ चुकी थी. उन्हें यह अंदाजा ही नहीं था कि सविनय अवज्ञा आंदोलन की ये शुरुआत अंग्रेजों की सत्ता की नींव हिला देगी.दक्षिण अफ्रीका में गांधी को एक बार घोड़ागाड़ी में अंग्रेज यात्री के लिए सीट नहीं छोड़ने पर पायदान पर बैठकर यात्रा करनी पड़ी थी. यही नहीं चालक ने उन्हें मारा भी था. फिर जब अफ्रीका में कई होटलों में उनका प्रवेश वर्जित किया गया. ये सब उन्हें याद आ रहा था. यहीं से उन्होंने आंदोलन के बीज बो दिए थे.


उस दिन के बाद से 1914 तक गांधी दक्षिण अफ्रीका में आंदोलन करते रहे. फिर 1915 में वह वतन लौटकर आए और आजादी का आंदोलन छेड़ दिया. आज भी देश की सभी सरकारें गांधी जी के योगदान को याद करती हैं.गांधी को अगर उस दिन ट्रेन से धक्का ना दिया गया होता  वह गांधी रह जाते मोहनदास करमचंद गांधी बैरिस्टर मोहनदास करमचंद गांधी लेकिन उसके बाद बने वह महात्मा गांधी पूरे विश्व के लिए एक मिसाल बने एक नई राह बताने वाला इंसान बना मैं सलाम करता हूं और बहुत शुक्रगुजार हूं.


गांधी एक इंसान नहीं एक विचारधारा थी और आज भी  विचारधारा को लेकर पूरी दुनिया के अंदर लोग सत्य की राह पर चलते हैं और भारत में सियासी पार्टियां अगर इनके विचारों के ऊपर अमल करें और उनको  आगे बढ़ाएं तो एक न एक दिन  पूरे विश्व में कामयाब हो सकता है मेरा आप तमाम लोगों से निवेदन है कि एक बार गांधी को महात्मा गांधी जी जरूर पढ़ा जाए और अपने बच्चों घरवालों रिश्तेदारों और दोस्तों को भी पढ़ने के लिए कहा जाए