झाबुआ - सूर्य ग्रहण के महत्व जाने आचार्य पंडित जैमिनी शुक्ला सत्यनारायण मंदिर राजवाड़ा की जबानी

झाबुआ - सूर्य ग्रहण के महत्व जाने आचार्य पंडित जैमिनी शुक्ला सत्यनारायण मंदिर राजवाड़ा की  जबानी

 झाबुआ - सूर्य ग्रहण के महत्व जाने आचार्य पंडित जैमिनी शुक्ला सत्यनारायण मंदिर राजवाड़ा की  जबानी  


संवत 2077 आषाढ़ कृष्ण पक्ष अमावस रविवार तारीख 21/6/ 2020 ईस्वी को खंडग्रास अथवा कंकणाकृती सूर्य ग्रहण होगा। यह सूर्य ग्रहण भारत में दृश्य होगा इस ग्रहण का सूतक 20/6 /2020 को रात्रि 10:09 से मान्य तथा तारीख 21/6/ 2020 को ग्रहण का स्पर्श दिन में 10:09 से मान्य तथा मोक्ष शुद्धि काल दिन में 1:45 पर स्पष्ट है। यह सूर्य ग्रहण महिला , नवविवाहिता कन्या ,विवाह योग्य बालक बालिका, उद्योगपति ,मंत्री ,धर्म नेता पर भी प्रभार सूचक एवं दर्शन योग्य नहीं। 

*ग्रहण में क्या करें क्या न करें*

 सूर्य ग्रहण में ग्रहण से पूर्व चार प्रहर (12 घंटे)पूर्व भोजन नहीं करना चाहिए। बूढ़े बालक रोगी और गर्भवती महिलाएं डेढ़ प्रहर (साडे चार घंटे )पूर्व तक खा सकते हैं ग्रहण के कुप्रभाव से खाने पीने की वस्तुएं दूषित ना हो इसलिए सभी खाद्य पदार्थों एवं पीने के जल में तुलसी का पत्ता अथवा कुश डाल दें। मोबाइल के उपयोग से बचे सत्संग कीर्तन  यदि डाउनलोड करना हो तो पहले ही कर ले और ग्रहण काल में उसे सुने। ग्रहण के समय पहने हुए एवं स्पर्श किए गए वस्त्र आदि अशुद्ध माने जाते हैं अतः ग्रहण पूरा होते ही कपड़े सहित स्नान कर लेना चाहिए।  ग्रहण के समय कुछ भी क्रिया ना करते हुए केवल शांत चित् से अपने गुरु मंत्र का जाप, इष्ट देव की आराधना एवं धार्मिक ग्रंथों का पठन मनन करना चाहिए सूर्य ग्रहण के समय संयम रखकर किए गए जप ध्यान करने से कई गुना फल प्राप्त होता है ग्रहण काल में सभी लोग गले में तुलसी की माला या चोटी में कुश धारण कर रखें। 

सूर्य ग्रहण का राशियों पर शुभ अशुभ प्रभाव भाव - मेष पद सम्मान की प्राप्ति, वृषभ व्यापार में हानि परेशानी, मिथुन घटना दुर्घटना, कर्क चोट की आशंका, सिंह जीवनसाथी को सुख, कन्या शुभ समाचार, तुला वाद विवाद, वृश्चिक परेशानी, धनु जीवनसाथी को कष्ट, मकर शुभ, कुंभ तनाव व मानसिक परेशानी, मीन अधिक खर्च। 

*झाबुआ से सलीम हुसैन की रिपोर्ट*