प्रयागराज - वेद पाठी ब्राह्मणों ने सरकार से आर्थिक पैकेज की की मांग

प्रयागराज - वेद पाठी ब्राह्मणों ने सरकार से आर्थिक पैकेज की की मांग

प्रयागराज - वेद पाठी ब्राह्मणों ने सरकार से आर्थिक पैकेज की की मांग

प्रयाग राज में वेद पाठी ब्राम्हण कोरोना महामारी को दूर करने के लिए निस्वार्थ भाव से निशुल्क कर रहे हैं निरंतर महामृत्युंजय मंत्र का जप

 करोना जैसी भयंकर महामारी जहां पूरे विश्व को अपने चपेट में ले चुकी है और लोग बचाव के तरह तरह के उपाय कर रहे हैं वही प्रयागराज जिले में पत्रकारों की टीम जब करोना से बचाव का जायजा लेने प्रयाग राज के विभिन्न मंदिरों में पहुंचते हैं तो वहां देखते हैं कि पूरे मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ है केवल गिने चुने विद्वान निस्वार्थ भाव से जप करते मिले।
जब पत्रकारो की टीम ने उनसे बात की तो उन्होंने कोरोना से बचाव के शास्त्रवत उपाय भी बताएं और सरकार से उन्होंने मांग किया की कोरोना जैसी महामारी के समय सरकार ने लाक डाउन कर के बड़ा ही अच्छा निर्णय लिया किंतु वैदिक ब्राह्मणों का काफी नुकसान हुआ नवरात्रि के पहले से आज 2 महीने लगभग पूरे हो चुके हैं  और उनके यहां अब समस्याओं का अंबार खड़ा होता दिखाई पड़ रहा है ना ही विद्वान लोग अनुष्ठान करवा पा रहे हैं ना ही यज्ञ करवा पा रहे हैं जिससे उनका जीवन बाधित है और चिंताजनक है।

इस संकट की घड़ी में जो सदैव समाज के हित में सोचता है धर्म की जय हो अधर्म का नाश हो प्राणियों में सद्भावना हो विश्व का कल्याण हो ऐसी विचारधारा को लेकर समाज में निकलता है वह पीड़ित है यह बहुत बड़ी बात है चिंताजनक बात है प्रयागराज में भारी संख्या में आचार्य हैं जिनके सानिध्य में रहकर हजारों की संख्या में वेद पाठी ब्राम्हण यज्ञ अनुष्ठान करवा कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं सरकार को इस पर जरूर सोचना चाहिए और मैं उन संत समाज से निवेदन करना चाहता हूं जो धरती पर देवता के ही स्वरुप बतलाए गए हैं और मुझे जहां तक ज्ञान है मंत्रों के अधीन ही देवता होते हैं इसलिए संत समाज को भी इस विषय पर विचार करना चाहिए बैदिक ब्राह्मणों के लिए भी राज्य सरकार को और केंद्र सरकार को निश्चित आर्थिक मदद करनी चाहिए यह बात खुद आचार्य अजय शास्त्री, आचार्य विजय शास्त्री, आचार्य कामराज त्रिपाठी, आचार्य कीर्ति कुमार, आचार्य बाल कृष्न पांडेय आदि विद्वान हमेशा पूजा पाठ में लगे रहते हैं सरकार को निश्चित आर्थिक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए जिससे वेद पाठी ब्राम्हण का विश्वास सरकार पर बना रहे

प्रयाागराज से रवीन्द्र श्रीवास्तव की रिपोर्ट